Tuesday, November 17, 2009

मैं

कभी शांत 
तो कभी बैचेन 
कभी दोस्तों की भीड 
तो कभी तन्हा अकेला
वेरागी मन
कभी भागता 
सपनों के पीछे


No comments:

Post a Comment