Tuesday, May 15, 2018

The Magic of Wheatgrass Juice




Look around yourself almost 1/3 of the Earth is covered with grass. Nature has given the 'soldiers' to animals and humans as cure in the form of grass. You might have seen cats and dogs nibbling over the grass whenever they fall sick. Intuitively animals know the grass is a cure for all kinds of sickness. Among all types of grasses, wheat grass (till first 2 weeks after the germination of the wheat grains) has all the necessary nutrients.
Wheat grass juice is a soldier in a true sense, a soldier equipped with all kinds of intelligence, power, sharpness and speed. It can be called as a soldier of the body and has the greatest potential to cure the human body from practically every kind of disease, because of the following qualities:-
1)   It is a complete protein containing over 20 essential and non- essential amino acids.
2)   In the Vitamin department, it contains twice Vitamin A (Beta- Carotene) than carrots, all the Vitamins B including B-12, more Vitamin C than oranges, Vitamin E and Vitamin K.
3)   Wheatgrass is an excellent source for all major and minor minerals, containing 92 of the 102 minerals found in the soil. It is especially high in calcium, magnesium, manganese, phosphorus and potassium, as well as trace minerals such as zinc and selenium.
4)   It contains essential fatty acids: Linolenic Acid and Linoleic Acid.
5)   It has more than 80 different enzymes. Nutritive value of 15 kg wheatgrass juice is equivalent to 350 kg of the  vegetables
Wheatgrass has oxygen in a diffusible state (ready for body absorption) in abundance. When we drink wheatgrass juice, supply of oxygen in blood increases, leading to the longevity and vitality of the body.  Chlorophyll of wheatgrass is also known as green blood. When compared to the molecule of hemoglobin, the oxygen carrier in human blood, chlorophyll is almost identical. The major difference is that the nucleus of chlorophyll contains Magnesium (Mg), whereas hemoglobin contains Iron (Fe). Chlorophyll's unique ability to kill anaerobic odor producing bacteria is the reason, it covers up the smell of garlic, fights bad breath, body odor and acts as a general antiseptic. These bacteria, which live without air, are destroyed by chlorophyll's oxygen producing agents.
Dr. Otto Warburg, the 1931 Nobel Prize winner of Physiology and Medicine discovered that oxygen deprivation was a major cause of cancer. The cancer therapy today bombards tumours with ozone, a highly active oxygen. Unlike many drugs, chlorophyll has never been found to be toxic in any dosages. Chlorophyll can even protect us from harmful radiation from X-ray, television, computer screen, transmitters and microwave. Famous research scientist E.Bircher called Chlorophyll as “Concentrated Sun  Power” and reported that it increases the function of the heart, vascular system, kidneys, intestine, uterus and the lungs. It raises the basic nitrogen exchange. And is therefore a tonic which, considering its stimulation properties cannot be compared with any other food or medicine on the planet. We can conclusively say that drinking wheatgrass juice certainly detoxyfies the blood and strengthens the immune system. It leads to more energy and an improved ability to combat and reverse illness.

Some of the Nutrients in Wheat Grass
Amino Acids: Typtophan, Glutamic Acid, Alanine, Methionine, Arginine, Lysine, Aspartic Acid, Cystine, Glycine, Hisidine, lsoleucine, Leucine, phenylalaine, Proline, Serine, Threonline, Valine.
Enzymes: (Over 80 have been identified) Super-oxide Dismutase, Peroxidase, Phosphatase, Catalase, Cytochrome Oxidase, DNase, RnaseSuperoxide, Hexokinase, Malic dehydrogenase, Nitrate reductase, Nitrogen oxyreductase, Fatty Acid Oxyreductase, Fatty Acid Oxidase, Phosolipase, Polyphenoloxidase, Dismutase, Transhydrogenase.
Phytochemicals: Chlorophyll, Carotenoids, Bioflavonoids, growth hormones, RNA, DNA.
Vitamins: Vitamin C, Vitamin E (Succinate), Beta-carotene (Vitamin A) Biotin, Choline, Folic Acid, B1-Thiamine, B2-Riboflavin, B3-Niacin, B6- Pantothenic Acid and Vitamin K.
Minerals & Trace Minerals:
Zinc, Selenium, Phosphorus, Potassium, Calcium, Boron, Chloride, Chromium, Cobalt, Copper, lodine, lron, Magnesium, Nickel, Sodium and Sulfur. (These are the primary ones, there are many more.)
Fatty Acids: Linolenic Acid, Linoleic Acid.



Some Benefits of Grass Substantiated By Research
> Repairs DNA > Reduces Cholesterol
> Enhances Immunity > Prevents Inflammation
> Stops Free-Radicals > Promotes Cellular Rejuvenation
> Inhibits Carcinogens > Enhances Stamina & Endurance
> Increases Longevity > Neutralizes Pesticides
> Provides Growth Hormone > Provides Antioxidants
> Helps to Cure Skin Diseases > Lowers Atherosclerosis Risk
Some F. A. Q.

Question: How do I avoid mould when growing wheatgrass?
Answer: Mould is the most common problem, when growing wheatgrass (in fact it is often the only problem). It can be identified as white blobs forming (normally around the base of the wheatgrass stalks) when it is alive and as black spots when it is dead. The following are the suggestions for preventing mould formation to your home grown wheatgrass.

Question: At what stage the wheat grass should be used for Juice?

Answer: The plant undergoes rapid growth with increasingly nutritional manifestation until maturity (when it switches gear from vegetative growth to reproductive growth). Just prior to this change- over, the plant is at its nutritional peak. This transition is known as jointing (as shown in picture). After jointing the nutritional counts drop radically. The plant then start sending all its nourishment to the developing wheat grains.

Question: Can I take wheatgrass during my pregnancy?
Answer: Wheatgrass is great for prenatal care, as it provides the body with nutrients like antioxidants, chlorophyll and folic acid.

Question: I have a wheat or gluten allergy, is wheatgrass juice safe to take?
Answer: Wheatgrass is harvested till the jointing stage, before it turns into a grain. In this stage the grass does not contain any gluten. It is extremely rare for people with wheat allergies to have reaction, because they are usually allergic to the gluten found in the wheat kernel. Wheat grain is different than wheat grass. One is grain and other is a green vegetable.

Question: Can you use wheat grass powder instead of Wheat grass Juice?
Answer: The Wheat grass juice has all the nutrients capable to fight with diseases found in our body, more over it is also mandatory to consume the juice within twenty minutes of the preparation. After that time period the nutrient value radically falls down, but in case of wheat grass powder, the optimum benefit can not be attained. Anything that is dried has an
incredible loss of vital life force. Even if you dry it carefully. Dried is dormant. Dormant is inactive. Problem with all that dried stuff is the life force. The ethereal energy is dissipated and lost. You are something highly vibrational and wheat grass juice is also the highly vibrational –it tunes right into you and brings up your vibration.

How Wheatgrass Heals?
Here I would like to shift your focus from mythology and history towards concrete facts and logic.
Wheatgrass helps in healing by:
  1. Restoring the damaged neurons.
  2. Restoring the organ damage.
  3. Behavior modification.
  4. Restoring the intuitive intelligence.
  5. Complete mind–body cleansing.
  6. Optimizing the hormonal balance.
And to complete the answer I will tell you..

Why Wheatgrass Heals?
Because it contains:
1. Power of sunlight in condensed form.
2. All the 92 nutrients out of 102 nutrients in the appropriate ratio as needed by human body for perfect balance.
3. Mind–body–soul alignment through perfect vibrational energy. Truly said, by Hippocrates, the father of modern medicine, “Not the Doctor, but Nature Heals”.

Question: How can I take out the wheat grass juice?
Answer: You have the potential to change your life forever. I am going to reveal to you the Panacea on earth. It will change the way you think about health and then you'll never be required to visit any hospital or health center to cure dreaded diseases.
It had been in use since ages. One can find its mention and use in the pages of mythology and world history. Let me give some of the endorsees of this humble little secret.
1) Lord Ganesha once swallowed a mighty demon and developed a burning sensation in his stomach. No God or doctor all over the cosmos could relieve him from his burning pain. Then 8800 sages gave him this food that we are talking about & he got immediate relief.
2) Jesus Christ asked his men and mankind to take this food to cure themselves of any disease.
3) This food was taken by Egyptian Kings and soldiers of Mesopotamian civilization to keep themselves healthy.
4) Shushruta who wrote “Shushruta Samhita” and is known as 'father of Surgery', used this to heal the injuries and wounds of his patients. 5) It was used during the reign of Chandragupta Maurya to heal and cure wounds and injuries.
6) The great Arab-traveler Ibn–e-battuta or Hajji Abu-Abdulla Muhammad was a Moroccan. He is known for his fascinating travels spanning thirty years. He started his journey at the age of twenty-one (1325) and ended it in 1355. During his travel in 1348, when he was in Damascus Syria ,he got sick.  that time, the whole world was under a pandemic called Bubonic Plague, also known as Black-Death. It was the most devastating pandemic in human History. Ibn-e-Battuta too caught this plague. One of his professors helped him to get cured. This professor gave him the juice of this wonder food and other concoctions. He was back on his foot soon and left for India.

7) Babylonian King Nebuchadnezzar II, who built 'Hanging Garden of Babylon' to please his homesick wife Amytis of Media, once got very sick and lost his mental balance. He was sick for seven long years. Finally he got cured consuming fruits, vegetables and herbs and this food. 

Wednesday, May 9, 2018

The harsh truth

Image result for packed juice
“Today many spends their entire earning of 50 years in saving their life, in the last 50 days of his life .

Part-1
It goes without saying that the hospital has become a thriving business today. Remember that your falling ill and thereby your prolonged illness is going to benefit hospitals and a few companies. Perhaps this is the reason why a company like BRITANNIA writes in a certain ad for it's biscuit,' Let's be friends with diabetes.' Just imagine who would like to be friendly with any disease?
Although it has been proved that the present set of diseases related to our prevailing life style could be attributed to fast food. In spite of that,  you go to any big private hospital, you are sure to find fast food restaurants in the same.
The matter does not end here. Let's move forward and go around into the kitchens of any renowned hospitals, where you will find packed juices containing harmful chemicals being served to patients, in the name of fruit juice, which is detrimental to the delicate immune system of the patients. Every doctor knows that freshly extracted fruit juices are very good for health and packed juices are more harmful, even then it is served in many hospitals. Similarly, food prepared in a microwave, quite often becomes the cause of illness and fatal diseases like cancer. Microwave vibrates the water molecules lakh of times in a second which heats up the food and cooks it in no time. But the chemical structure of the water molecules contained in the food changes in an unnatural way, thus making the food changed it's properties, which can be toxic when it finally goes into the stomach.
Now the matter of concern is that when patients, who are admitted to hospitals, are served the food cooked in microwave it can aggravate their problems.
Possibly, our doctors too overlook such crucial facts/reasons and like any other layman, they themselves end up becoming patients. Many of the doctors themselves suffer from many such diseases. When they themselves suffer from those , how can they treat their patients.
If you don't believe these facts, google "IMA" together with "tropicana" you find dozens of news link statin that,  an eminent institution of medical profession, i.e. Indian Medical Association, which is supposed to be the most reputed organization, which has about more than three lakhs doctors as members and also called the backbone of Modern Medicine in India. In 2008, through an advertisement on T.V., recommended drinking of Tropicana juice and said that it is very beneficial for health. Whereas; the fact is that it contains so many harmful chemicals as preservatives, that the juice becomes toxic for health. It is true that fresh juice is good for us…but in the name of fresh juice they promoted packed juice.
To keep you alive with diseases is going to benefit these hospitals and companies manufacturing medicines. They are together hatching this conspiracy. It is a strange misfortune of human species that only human beings earn money by others human diseases. Not a day passes by where we don’t come across the headlines in the news highlighting health fraud or a medical scam by pharmaceutical companies of the world.

Part-2 

The product Listerine which comes as a mouth wash now, was discovered in 1879, as a surgical antiseptic. The word Listerine was derived from the name of an English surgeon, Joseph Lawrence Lister, who had first demonstrated the use of Listerine as a surgical antiseptic. Soon Joseph Lawrence and Jordan.W.Lambert were selling Listerine as a floor cleaner. In 1895, suddenly it began to be used for teeth, as a mouth cleaner, to dispel bad smell from the mouth, thus was being sold to the dental surgeons. 
By 1914, in America, it began to be used as an 'over the counter' mouth wash and thus became popular by the same. By 1920, Lambert Pharmacal company, Listerine maker got convinced that he had got cure, now there arose the need for a disease. Finally, ‘Halitosis’ disease was made up. This referred to the foul smell of the mouth, about which a very few people knew. Through advertisements, Listerine was demonstrated as the treatment for halitosis. The advertisers described halitosis as such a disease which could be the one of the causes of lack of success in the career, romance and married life of a person. Soon, America's 90% people were known to be affected by halitosis.


seems no escape from it…. only escape is raise your awareness and consciousness and return to the natural way of living.

Tuesday, May 1, 2018

ARE COPPER MUGS SAFE: WHAT’S THE TRUTH?


Copper, reddish-gold surface  carries a certain antique appeal. Many alternative medicine users advocates use of copper vessels for drinking water and other  beverage.  I have collected  and compiled medical opinions on it.   
Image result for copper mugDrinking anything with a pH below 6.0 from a copper vessel is highly unsafe. That would include anything with vinegar, fruit juice and wine. It’s undeniable that copper is a beautiful accent to any decorating scheme. 
Copper has made a comeback all over the home, but especially in the kitchen. Copper kettles, copper pots and pans, copper sinks, copper plating—this warm material evokes a feeling of belonging. It’s an essential part of that vintage aesthetic that brings communities together to share food and laughter over drinks.
But many adding to their drink ware collection, but beware too much copper can be toxic, after all. We’re past the days of Egyptian lead eyeliner and mercury thermometers.
It is true that copper exists naturally in small quantities in the human body,  and it’s necessary to help regulate oxygen in the blood stream, and is even found in minute amounts in our drinking water. But too much copper can cause major health problems.
While acute cases of copper poisoning can be treated, long-term overconsumption of copper can lead to copper toxicity, which affects multiple systems in the body, including the stomach, kidneys, liver, and brain. Heating copper to hot temperatures and cooking acidic food in copper cookware are especially likely to lead to ill effects.
For these reasons, the sale of pure copper kitchenware is often restricted to decorating purposes only. or otherwise it is lined with stainless steel / tin both of which are perfectly safe to drink. This interior lining prevents chemical reactions between copper and the ingredients of the drink and it also prevents copper from leaking into your cocktail.
While used less frequently, even unlined copper mugs are safe to drink from depending on a few factors.
1.   They must be filled only with cold or room-temperature beverages.
2.   They must not be filled with an acidic substance.
Not easy to control all the time as both heat and acidity react with copper, dissolving it and causing it to potentially leak into your drink. In my personal opinion trace metal are useful to our body growth if it is taken from natural plant diet. Iron deficiency can not be treated by drinking from iron pot  J In same way copper mug is not for copper deficiency. But copper do have anti bacterial property and can kill bacteria to certain extent.

Copper toxicity, can occur from eating acid foods cooked in uncoated copper cookware, or from exposure to excess copper in drinking water or other environmental sources.

Copper is a mineral that is found throughout the body. It helps your body make red blood cells and keeps nerve cells and your immune system healthy. It also helps form collagen, a key part of bones and connective tissue. Copper may also act as an antioxidant, reducing free radicals that can damage cells and DNA.

If you consume too much copper, the effect can be poisonous. Symptoms include nausea, vomiting, headaches, dizziness, diarrhea, stomach pain and a metallic taste in your mouth. If you then develop a copper toxicity, this rare occurrence can lead to heart problems, jaundice, coma and potentially death.

As per The EPA guideline has established an "action level" for copper in drinking water. This action level is exceeded if the level of copper in more than 10 percent of the tap water samples collected by a water system is greater than 1,300 micrograms per liter (or 1,300 parts per billion).

The Recommended Dietary Allowance (RDA) for adult men and women is 900 μg/day. To overcome copper deficiency it is better to eat fruit high in copper. Below are 15 fruits highest in copper, including guavas, durians, avocados, blackberries, pomegranates, litchis, starfruit, kiwifruit, grapes, green olives, persimmons, mangospineapples, bosc pears, and raspberries.

durwesh

Tuesday, February 27, 2018

हे वैज्ञानिक सोचवाले इंसानों आप सभी को होली की शुभकामनायें


विज्ञान का विधार्थी होने के  नाते मेरा विज्ञान का पक्षधर होना स्वाभाविक होना चाहिये, एसे मे जब अंधविश्वास पर वार करते हुये लेख पढने को मिले तो मुझे अच्छा लगना चाहिये, पर मे क्या करू मुझे दूसरे अनदेखे पहलू पर नजर डालने की बुरी आदत जो है, लीक से हटकर सोचने की आदत है. इधर विज्ञान का विद्यार्थी होने के नाते मेरे साथी मुझ से यह उम्मीद करते है की माफिया, पूजीपतियों  और राजनेताओं की सांठ्गांठ को नजर अंदाज करते हुये हर अच्छी बुरी वैज्ञानिक सोच का मै समर्थन करू. यह भी भुला दू की आज विज्ञान हमे किस दिशा मे ले जा रहा है.
इन दिनों मेरे आस पास विज्ञान और तकनीक के नाम पर जो हो रहा है उसे देखकर चिंतित और व्यथित हू  और अपने को असहाय महसूस कर रहा हू. गलत का विरोध भी करू तो केसे ?  विरोध करने के लिये और अपनी बात कहने के लिये उन्ही के पास जाना होगा जिसका विरोध करना है, यही मेरी मजबूरी है.  इस हद तक की निर्भरता इसी विज्ञान की ही तो देन है.
अगर आज मुझे अपनी बात आप तक पहुचानी है तो करोडो का चेनल चाहिये.... एसा एक नही सेकडो चेनल चाहिये, क्योंकी मे जिनके बारे मे कहना चाहता हू उनके पास मुझे गलत साबित करने के प्रचार साधन आपार है. इतना असाहाय तो मेरे पूर्वजों ने भी पहले कभी महसूस नही किया होगा. यह सच है की वो कम ज्ञानी थे, अंधविश्वासी भी थे. शायद हमारी तरह गलत और सही की पहचान नही कर पाते थे. उन्हे नही पता था की पृथ्वी सूर्य के चारो ओर चक्कर काटती है. पर उनकी अपनी एक जीवनशेली थी जिसे अपना कर वो हजारो सालो से पर्यावरण के साथ सामंजस्य बनाये रखते हुये इंसानी जीवन को जीवत बनाये रखा. पर आज क्या ?
आज हम हद दर्जे तक मतलबी और लालची हो गये है हमारी कथनी और करनी मे फर्क बढ गया है.  हमारी जिंदगी इतनी आराम तलब और मतलब परस्त हो गई है की हमने अपने आनेवाले  संकट से आंखे मूद ली है. इस विज्ञान ने इंसान मे मोजूद जानवर की हसरत को हजारो गुना बढा दिया है. आज हम वही बोलते और सोचते है जो हमारी हसरतो को पूरा करने मे मदद करे...किसी भी कीमत पर.
लालच को हमने कोरपोरेट का रूप दे दिया है. जो बस कमजोर को अपनी मालकियत समझता है प्राकृति संसाधनो का बेहिसाब दोहन इसी लालच की देन है. यही लालच धर्म और विज्ञान को अपने मतलब के लिये एक दूसरे को खून का प्यासा बना देता है. लाखो मार दिये जाते है और दोष धर्म का. हो सकता है,  दोष धर्म का ही हो,  पर हथियार किसके है ...वो तो विज्ञान की ही देन  है ना ?  वरना मात्र नाखून और पंजो से आप इतनो का मार पाते ?   
प्रथम विश्व युद्ध से पहले तक विज्ञान और उसके द्वारा किया गया तकनिकी विकास का असर बहुत सिमित क्षेत्र मे होता था. ये वो समय था जब सभ्यताये प्रकृति के साथ तालमेल रखते हुये अपनी परंपराओं और समाजिक संरचना को हजारों सालो तक बनाये रही, और  वंही कुछ समाज अन्य सभ्य समझे जाने वाले समाजों की तुलना मे  अपने को  आदिम, जंगली बनाये रहे.  उस समय वो एसा कर भी पाये क्योंकी विज्ञान उतना उन्नत नही था.  
सभ्यताये आती- जाती रही पर हजारों सालो से मानव जाति अपना वजूद बनाये रही, प्रथम विश्व युद्ध के  बाद यह सब तेजी से बदला गया. जिस तेजी से प्राकृतिक संसाधनों का दोहन हो रहा है वो अब किसी से छुपा नही है, विज्ञान और तकनीकी की मदद से इसकी अंधाधुंध उपयोग सभी सीमाये पार कर रहा है.
यह सच है की अंधविश्वास ने मानवजाति का नुकसान किया  है. पर क्या कभी इसका किसी ने हिसाब लगाया की विज्ञान और तकनीकी ने मानव जाति का कितना नुकसान किया है. इसलिये अंधविश्वास पर वार करने से पहले हमे यह देखना होगा की जिस  विज्ञान की उगंली पकडकर हम चलना चाहते है वो हमे किस दिशा मे ले जा रहा है. यह तब, और भी जरूरी हो जाता है जब व्यवस्था भ्रष्ट हो  और वो लालची मतलबी एह्सान फरामोस राजनेताओं धर्म के ठेकेदारों और पूजीपतियो की लिये काम कर रही हो.
कल तक अंधविश्वास और गलत पंरपराये मात्र उनको  प्रभावित करते थी जो उन्हे मानते थे. आज विज्ञान उनको भी प्रभावित कर रहा है जिसका उससे दूर दूर तक कोइ लेना देना नही है. पृथ्वी का जीवन इससे पहले इतने संकट मे कभी नही था. हर गुजरते दिन के साथ कोइ ना कोइ प्रजाति विलुप्त होती जा रही है. आज हम मे से कोइ भी पक्के र्तौर पर यह नही कह सकता की अगले 50 साल मानव जाति भी बनी रहेगी या नही.
एल्बर्ट आंस्टीन को आज अगर विज्ञान के लिये याद किया जा रहा है तो उन्हे परमाणुबम के लिये और उससे हुई लाखों हत्याओं के लिये भी याद किया जाये ...  जो उनके रहते नागासाकी और हिरोशिमा मे हुई .... कितना असाहाय महसूस किया होगा एल्बर्ट आंस्टीन ने ...या किया भी होगा या नही...कोन जानता है....इतिहास तो जीतने वाले लिखते है. 
आज विश्व की 20% आबादी का पृथ्वी के 80% संसाधनों पर कब्जा है. ये बेहद ताकतवर है. यही  लोग विज्ञान और तकनीक का सहारा लेकर बाकी 80% आबादी को डर के साये मे जीने को मजबूर कर दिया है. यही वो लोग है जिनका असिमित लालच जंगल , पहाड को बरबाद कर दे रहा है.  आखिर प्राक़ृतिक संसाधनों का बेहिसाब दोहन हमे किस ओर ले जा रहा है?
कल ही ल्यूसी रोबोट का विडियो देखा ...उसमे वो बोल रही है की “ अगर आप मेरे साथ सही सलूक करोगे तो मै भी आपके साथ सही सलूक करूगी” ? हो सकता है की यह किसी का मजाकिया विडियो हो? पर यह मात्र धमकी नही है. आर्टी फीशियल इंटेलीजेंस से युक्त ये रोबोट समय के साथ और बेहतर होते जायेगे और वो समय दूर नही जब हम पूरी तरह इन पर निर्भर होंगे इसके नतीजे कितने विनाशकारी हो सकते है यह तो भविष्य की बात है पर आज जो  कुछ  अफगानिस्तान, इराक मे हुआ उसे नजर अंदाज कर पायेगे, किस तरह रिमोट मे बैठे कुछ लोग विज्ञान की देन ड्रोन और एसे ही कितने हथियारों से सब कुछ तबाह करने पर तुले हुये है ... और जो विरोध मे है वो बस आंतकवादी  करार दिये जा रहे है.  मै यह नही कह रहा हू की आप फिर से आदिम बन  जाओ. पर इसका मतलब यह भी नही की विज्ञान और तकनीक का अंध भक्त हो जाया जाये.
हमे धर्म और विज्ञान से परे जाकर जीवन को देखना और समझना है. जीवन को सरल बनाना है. आज विश्व की आबादी 7.6 अरब से भी ज्यादा है और अगले 10 वर्षों मे वो 9 अरब का आकडा पर कर जायेगी. 9 अरब लालची और मतलबी लोग जो अपने ही बनाये विज्ञान और तकनीक के दानव से डरे और सहमे हुये होंगे ..... जिसे हम प्रगति कहते है क्या सच मे यह प्रगति है ...और यह केसी प्रगति, किसकी प्रगति ?
इस सब से इंसानियत ने क्या पाया ?
आज विकास के नाम पर हमने लंगोठ पहने मूल निवासी को जींस पहना दी है हाथ मे मोबाइल थमा दिया है देखने को टीवी भी लगा दिया है ...क्या यह सब करके उस सीधे सादे इंसान को अपनी तरह  लालची और मतलबी नही बना दिया. अब हम चाहते है की हम उसके जंगल और पहाड ले ले और वो उफ तक ना करे
मै आदतन ट्रेकर हू ....अब  भी ट्रेकिंग के दौरान मुझे जंगल और पहाड मे एसे लोग मिल जाते है जिनके पास भले ही खाने को एक रोटी हो पर उसमे से भी  वो आधी रोटी मुझे देना चाहता ...अपनी खटिया मुझे सोने को देता है और खुद  नीचे जमीन पर सो जाने की जिद्द करता है ...उस समय  सच मै अपनी इतनी बढी वैज्ञानिक सोच और तकनीक होने के बावजूद खुद को बहुत छोटा महसूस करता हू ...आज वो संकट मे है और मे बस वाट्सएप पर यह लिख पा रहा हू . उसका साथ दूंगा तो आप सब मुझे आंतक वादी और माओवादी घोषित करने मे कतई परहेज नही करोगे ... हो सकता कुछ लोग इस लेख को पढकर एसा सोच भी रहे हो
क्या ही अच्छा होता अगर विज्ञान इस धरती पर  रह रहे इंसानों को समझा पाता की इस पृथ्वी पर उसके जीने के लिये जरूरत से ज्यादा है. काश विज्ञान हम सब को विश्व ग्राम का अहसाहस दिला पाता. हमे समझा पाता की राष्ट्र , धर्म, रंग और और जाति मे बटा वो प्राकृति की एक मात्र एसी अनूठी रचना है जो चाहे तो जानवर से खुद इश्वर बना सकता है.
अफसोस विज्ञान एसा नही कर पाया उस पर  राष्ट्र , धर्म , रंग और जाति जेसे बांटने वाले विचार पहले भी हावी थे और अब तो हद ही हो गई है. आज वो एसे विचार पागल पन की हद तक जनूनी होकर इसी विज्ञान की मदद से फेल रहे है. कुछ लोगों ने पृथ्वी के संसाधनों पर बेशर्मी की हद तक कब्जा कर लिया है और बाकीयों को राष्ट्र , धर्म , रंग और जाति जेसे बांटने वाले विचार से आपस मे लडाकर अपना उल्लू सीधा कर रहे है. और विज्ञान मात्र दृष्टा की भूमिका मे है.
सब को मौत की सच्चाई मालूम है सब को मालूम है की वो कितना ही अमर होने का जतन कर ले, मौत से वो बच नही पायेगा. जो पैदा हुआ है उसे मरना ही होगा. हमारी पागल पन की हद देखो की वो हमे दिखाई नही दे रहा है. 
आज विज्ञान बंदर के हाथों उस्तरा ही तो है ...ना भई ना उस्तरा नही..क्योंकी उससे तो वो खुद अपना ही नुकसान कर सकता था. उसके हाथ मे विज्ञान एक एसे रिमोट की तरह है जो किसी भी एटम बम को फोड सकता है .... जो अब फूटा की तब.
एटम बमों का भोडा प्रदर्शन शान से हो रहा है, जितना बढा बम उतना ही वैज्ञानिक और तकनीकी उन्नत देश.  हमने इतिहास  से ना सीखने की कसम खा रखी है.  आज हमने रक्षा के नाम पर इतने हथियार जमा कर लिये है जो इस पृथ्वी को सेकडो बार तबाह कर सकती है. फिर भी चेन नही हमे और घातक हथियार चाहिये. और एसे लोगों को आप विज्ञान देने की बात कर रहे हो.  मेरे हिसाब से अंधविश्वास पर काम करने से पहले हमे अपने लालच और डर पर काम करना चाहिये, और इस बात का जबाब हमे अपने अंदर खोजना चाहिये की लालच ज्यादा खतरनाक है या अंधविश्वास.
कहने को अब भी बहुत कुछ है पर लेख बंबा हो रहा है ...इसे पढते रह जाओगे तो होली कब मनाओगे. .. इस लिये आगे की बात किसी ओर दिन 

शुभ होली
                                                                                                                                     सादर
       दुर्वेश      

Sunday, December 31, 2017

1 जनवरी 2018

1 जनवरी 2018 को मुझे whats app पर यूं तो सेकडो मेसेज मिले जो शुभकामनाओं के संदेश से भरे हुये थे. उनमे एक मेल एसा था जो उन सब से अलग हटकर था.  इस मेसेज  को मेरे एक अजीज दोस्त ने बिना सोचे समझे भावनाओं मे बहकर मुझे फारवर्ड कर दिया था मे भी इसे बिना सोचे समझे आगे फारवर्ड कर सकता था पर एसा नही कर रहा हू नव वर्ष की शुरूआत एसे मेसेज से करने का मन नही हो रहा है. आगे कुछ लिखू उससे पहले आप भी इस मेसेज को पढ ले और अपनी समझ बना लें.
 >>>
कृपया नीचे लिखे सन्देश को बहुत ही गम्भीरता से पढ़ें और अपनी संस्कृति की झलक को देखेमनन करे।यदि अच्छा लगे तो आगे शेयर भी करे :- 🙏

जनवरी को क्या नया हो रहा है ?

न ऋतु बदली.. न मौसम
न कक्षा बदली... न सत्र
न फसल बदली...न खेती
न पेड़ पौधों की रंगत
न सूर्य चाँद सितारों की दिशा
ना ही नक्षत्र।।

जनवरी आने से पहले ही सब नववर्ष की बधाई देने लगते हैं। मानो कितना बड़ा पर्व है।

नया केवल एक दिन ही नही होता.. 
कुछ दिन तो नई अनुभूति होनी ही चाहिए। आखिर हमारा देश त्योहारों का देश है।

ईस्वी संवत का नया साल 1 जनवरी को और भारतीय नववर्ष (विक्रमी संवत) चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाता है। आईये देखते हैं दोनों का तुलनात्मक अंतर: 

1. प्रकृति- 
जनवरी को कोई अंतर नही जैसा दिसम्बर वैसी जनवरी.. चैत्र मास में चारो तरफ फूल खिल जाते हैंपेड़ो पर नए पत्ते आ जाते हैं। चारो तरफ हरियाली मानो प्रकृति नया साल मना रही हो I

2. वस्त्र- 
दिसम्बर और जनवरी में वही वस्त्रकंबलरजाईठिठुरते हाथ पैर.. 
चैत्र मास में सर्दी जा रही होती हैगर्मी का आगमन होने जा रहा होता है I

3. विद्यालयो का नया सत्र- दिसंबर जनवरी वही कक्षा कुछ नया नहीं.. 
जबकि मार्च अप्रैल में स्कूलो का रिजल्ट आता है नई कक्षा नया सत्र यानि विद्यालयों में नया साल I

4. नया वित्तीय वर्ष- 
दिसम्बर-जनबरी में कोई खातो की क्लोजिंग नही होती.. जबकि 31 मार्च को बैंको की (audit) कलोसिंग होती है नए वही खाते खोले जाते है I सरकार का भी नया सत्र शुरू होता है I

5कलैण्डर- 
जनवरी में नया कलैण्डर आता है.. 
चैत्र में नया पंचांग आता है I उसी से सभी भारतीय पर्वविवाह और अन्य महूर्त देखे जाते हैं I इसके बिना हिन्दू समाज जीबन की कल्पना भी नही कर सकता इतना महत्वपूर्ण है ये कैलेंडर यानि पंचांग I

6. किसानो का नया साल- दिसंबर-जनवरी में खेतो में वही फसल होती है.. 
जबकि मार्च-अप्रैल में फसल कटती है नया अनाज घर में आता है तो किसानो का नया वर्ष और उतसाह I

7. पर्व मनाने की विधि- 
31 दिसम्बर की रात नए साल के स्वागत के लिए लोग जमकर मदिरा पान करते हैहंगामा करते हैरात को पीकर गाड़ी चलने से दुर्घटना की सम्भावनारेप जैसी वारदातपुलिस प्रशासन बेहाल और भारतीय सांस्कृतिक मूल्यों का विनाश.. 
जबकि भारतीय नववर्ष व्रत से शुरू होता है पहला नवरात्र होता है घर घर मे माता रानी की पूजा होती है I शुद्ध सात्विक वातावरण बनता है I

8. ऐतिहासिक महत्त्व- 1 जनवरी का कोई ऐतेहासिक महत्व नही है.. 
जबकि चैत्र प्रतिपदा के दिन महाराज विक्रमादित्य द्वारा विक्रमी संवत् की शुरुआतभगवान झूलेलाल का जन्मनवरात्रे प्रारंम्भब्रहम्मा जी द्वारा सृष्टि की रचना इत्यादि का संबंध इस दिन से है I

अंग्रेजी कलेंडर की तारीख और अंग्रेज मानसिकता के लोगो के अलावा कुछ नही बदला.. 
अपना नव संवत् ही नया साल है जब ब्रह्माण्ड से लेकर सूर्य चाँद की दिशामौसमफसलकक्षानक्षत्रपौधों की नई पत्तियाकिसान की नई फसलविद्यार्थी की नई कक्षामनुष्य में नया रक्त संचरण आदि परिवर्तन होते है। जो विज्ञान आधारित है I

अपनी मानसिकता को बदले I विज्ञान आधारित भारतीय काल गणना को पहचाने। स्वयं सोचे की क्यों मनाये हम 1 जनवरी को नया वर्ष..?

"केबल कैलेंडर बदलें.. अपनी संस्कृति नहीं"

आओ जागेँ जगायेँभारतीय संस्कृति अपनायेँ और आगे बढ़े I
 >>>>
अगर मे इस मेसेज को फारवर्ड करू तो ही मै एक सच्चा हिन्दू कहलाउगा या हो सकता है की कल वो मेरी देश भक्ति को लेकर भी सवाल उठायें. एसे ही सेकडो मेसेज इन दिनों सोशल मिडिया पर छाये हुये है जो समाज को जोड नही वरन बांट रहे है इसे राजनितिक भाषा मे समाज और देश का polarization कहते है  आजकल एसा ही कुछ हो रहा है. हम चाहे या अनचाहे इस का हिस्सा बनते जा रहे है. कुछ लोग हमारी भावनाओं को भडकाने की पुर जोर कोशिश कर रहे है. अधूरा सच या आधा सच बताकर लोग अपनी दुकान चला रहे है.
अफसोस हम और आप भी अनजाने मे इसका हिस्सा बन जाते है. 1 जनवरी को खुश होने के मेरे अपने कारण है. कुछ कारण मे नीचे लिख रहा हू, जरूरी नही की आप मेरी सारी बातों से सहमत हों. पर मुझे मेरी बात को शांती पूर्वक कहने का हक तो है ही,   
1. मै अंग्रेजी कलेंडर को मानता हू क्योंकी मै इसे आसानी से समझता हू. यह सारी दुनिया मे सबसे ज्यादा प्रचलित और आसानी से समझ मे आने वाला कलेंडर है. 
2. धर्म और देश से परे मानवता का अहसाहस... कराने वाले इस दिन को मे खुशीपूर्वक मनाता हू और सब की खुशियों और दुआओं को कबूल करता हू. यह वो दिन है जब हम देश, धर्म और जाति से परे खुश होने कारण बनते है. .सारी दुनिया एक साथ इस दिन को मनाती है....एक मानवीय अहसाहस.
3. यह उस संस्कृति के प्रति आदर है जिसने हमे वैज्ञानिक सोच दी. पढने लिखने की आजादी दी. वरना हम ढोर गंवार ही रह जाते.
4. ब्रह्मा विष्णु महेश ...जिसका आदी है ना अंत. वो सब तो समय से परे है उसका तारीख और कलेंडर से कोइ लेना देना नही है. यह तो परम चेतना है जो उर्जा और पदार्थ के संचालन की  नियंता है. दुनिया मे सेकडो प्रकार के  कलेंडर है जिसके जन्म का कारण, उसे बनाये रखने और फिर खत्म होने का कारण  यही ब्रह्मा विष्णु महेश है. यह मात्र  विक्रम कलेंडर का ट्रेड मार्क केसे हो गया. सृष्टी की शुरूआत इस दिन से हुई यह आप की मान्यता हो सकती है... पर जिसका ना कोइ आदी है ना अंत उसकी शुरूआत इस दिन से हुई यह केसे मान लिया जाये.  वेसे इस बारे मे विस्तार से चर्चा फिर कभी.
5. भारतीय स्कूल कालेज के सत्र से  ना तो 1 जनवरी से कोइ नाता है ना विक्रम कलेंडर से.  31 मार्च से विक्रम कलेंडर कब से शुरू होने लगा ?
6. पोधों की नई पत्तियों को लेकर भी थोडा सोचिये... जम्मू से कन्याकुमारी तक यह समय अलग अलग है. और जब सारी दुनिया की बात हो तो .... हर दिन नई पोध उगती है और कटती है. सारे ब्रहमांड  की बात करते हो और सोच को मध्य भारत तक ही सिमित कर देते हो  और उसमे भी एक विशेष धर्म को.    
7. यह बात सही है की लगभग सारे भारत मे यह फसल तैयार होने का समय होता है. पर फसल दाता किसान अब फसले देखकर खुश नही होता...उसे तो इस बात की चिंता सताये रहती है की बजार मे उसे उसकी फसल के सही दाम मिलेगे या नही, या उसे भी आत्म हत्या करनी होगी. काश यह उनके लिये सही मायने मे जश्न का समय होता खुश होने का दिन होता. काश उसे सरकारी सब्सिडी पर जिंदा ना रहना पडे, उसे फसल के सही दाम मिल पाये. जिस दिन एसा हो जायेगा असल मे वो दिन किसान के लिये सही मायनों मे नया साल होगा  
8. अफसोस आप को शादी ब्याह मे दारू दिखाई नही देती...होली दिवाली  पर भी दिखाई नही देती... नव वर्ष मे यह आप को दिखाई दे रही है. अरे भई इस दिन लोग सच मे खुश होते है... और खुशी खुशी जाते साल की विदाई और आने वाल का स्वागत करते है. दारू का इससे बस इतना ही संबंध है की यह खुशी जाहिर करनी का उसे दोस्तों के साथ  मनाने का साधन है. इससे अच्छा साधन कोइ और मिलेगा तो लोग उसे अपना लेगे. जब तक  कोइ और  साधन नही है तो लोग दारू से ही काम चला रहा है  अब इसमे आप को क्या परेशानी हो गई.
दारू और मदिरा से दिखावे का विरोध...अरे इसके बिना भी कोइ जश्न होता है क्या.  देखा नही सरकारे केसे हर गली और नुक्कड पर दारू की दुकान खोलने मे लगी हुई है. अगर मै गलत नही हू तो इससे होने वाली कानूनी और गेर कानूनी कमाई से सरकारे चल रही है.  अरे मे मजाक नही कर रहा हू...देखा नही केसे पुलिस दारू की दुकानों का विरोध करने वालों पर लाठी चार्ज करती है.
मेरे जेसे करोडो अरबों लोग है जो बिना दारू के  नव वर्ष  मनाते है , पर क्या करे इस बात की कोइ चर्चा ही नही करता. क्या पता कल इसी बात को लेकर कोइ मुझे देश द्रोही ना कह दे हमारे जेसे लोग सरकार का नुकसान जो कर रहे है .
9. उपवास सेहत के लिये भले ही अच्छा हो पर  इसे लोग खुशी के साथ नही जोडते. अगर  आप ने उपवास किया हो तो पता होगा की यह असल मे कितना कष्ट कारी अनुभव होता है. नये साल मे और उपवास बात हजम नही हो रही है.  

10. वसुधैव कुटुम्बकम् सनातन धर्म का मूल संस्कार तथा विचारधारा है जो महा उपनिषद सहित कई ग्रन्थों में लिपिबद्ध है। इसका अर्थ है- धरती ही परिवार है (वसुधा एव कुटुम्बकम्)। यह दिन इस वाक्य को याद करने का दिन है. एक साथ खुश होने का दिन है. यह हिन्दू होने का दिन नही है....यह मानव होने का दिन है. बाकी 364 दिन आप हिन्दू रहिये, हिन्दूस्तानी रहिये  कोन रोक रहा है.